BREAKING NEWS

मथुरा : यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसे में ट्रेनी दरोगा की मौत, दूसरा घायल || मथुरा : सडक हादसों में दो की मौत, एक गंभीर घायल || मथुरा : शराब की दुकानों का निशाना बना रहे चोर || मथुरा : डीएम मथुरा ने कहा हमारे यहां न शराब बन रही है न बिक रही है || मथुरा : मंदिरों में सुबह से ही शुरू हो गई पूजा अर्चना || मथुरा : छटीकरा में पटाखे की चिंगारी से हुआ अग्निकांड

मथुरा। कोरोना के शोर में एड्स रोगियों की संख्या में इजाफा चैंकाने वाला हैै। इस दौरान लगे लाॅकडाउन और घर से निकलने पर परहेज करन जैसी सावधानियों का बरतने के बावजूद एड्स रोगियों की संख्या में इजाफा चैंकाता है।

Read More

मथुरा। शारदा ग्रुप के प्रतिष्ठित संस्थान हिन्दुस्तान कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी के बायोटेक्नोलॉजी विभाग में राष्ट्रीय हार्ट दिवस पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि बी.एल.के. सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ और पूर्व निदेशक फॉर्टिस अस्पताल, नई दिल्ली के डॉ. सुभाष चन्द्रा रहे।

Read More

मथुरा। समूचे भारत में अब कोरोना वायरस संक्रमन अपने उच्चतम स्तर की ओर बढ़ रहा  है । अभी भी समय है कृपया सावधानी बरतें।  यह बात डॉ सौरभ ने कही है। डॉ सौरभ के दी हॉस्पिटल में कोविड वायरस के रोग के विशेषज्ञ हैं। 

Read More

नींबू को कोई छोटी चीज मत समझ लेना। तांत्रिकों के अनुसार नींबू के उपायों से आप अपने बुरे दिनों को भी अच्छे दिनों में बदल सकते हैं। आइए जानें नींबू के चमत्कारिक उपाय

Read More

देश के जाने माने नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ दीपक जैन बने नयति का हिस्सा

Read More

नई दिल्ली। कोरोना से निपटने के लिए सरकार लगातार रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है। आयुष मंत्रालय ने आयुष क्वाथ के नाम से गोली या चूर्ण में मिश्रण उपलब्ध कराने का फैसला किया है। तुलसी, सुन्थी, दालचीनी और काली मिर्च का मिश्रण ज्यादा से ज्यादा बनाने के लिए मंत्रालय ने आयुष उत्पाद निर्माता कंपनियों, राज्य व केंद्र शासित राज्यों को निर्देश देते हुए अपने अपने राज्यों में इसका निर्माण शुरू करने के लिए कहा है। आयुष मंत्रालय के अनुसार, तीन तरह के फार्मूले आयुर्वेद के लिए आयुष क्वाथ, सिद्ध के लिए आयुष कुडीनीर तथा यूनानी के लिए आयुष जोशांदा के निर्माण का सुझाव दवा कंपनियों को दिया है। यह पाउडर और टैबलेट दोनों रुपों में होगा। इसके लिए औषधि व प्रसाधन सामग्री नियम 1945 के तहत लाइसेंस प्रक्रिया को सरल बनाया गया है। इस फैसले के बाद एमिल फार्मास्युटिकल ने आयुष क्वाथ बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। कंपनी के एमडी केके शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी में पारंपरिक चिकित्सा भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। मंत्रालय से दिशा-निर्देश मिलने के बाद आयुष क्वाथ को बनाने की तैयारी शुरू हो चुकी है। इसके लिए आवश्यक औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में आयुष चिकित्सा की अहम भूमिका पर चर्चा की थी। इससे पहले बीते 14 अप्रैल को देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता के जरिए कोरोना की इस लड़ाई को जीतने पर जोर दिया था। साभार-khaskhabar.com  

Read More

गिलोय एक चमत्कारी पौधा है, यह कई बीमारियों को दूर करने में मददगार होता है। इसके पत्ते पान के पत्तों की तरह होते हैं और इसके सेवन से शरीर स्वस्थ्य रहता है। आइए आज हम आपको यहां बता रहे हैं कि गिलोय किन-किन बीमारियों को दूर करने में मददगार होता है। बता दें कि गिलोय सबसे ज्यादा लाभकारी डायबिटिज के रोगियों के लिए होता है। इसमें हाइपोग्लैसेमिक होता है जो शरीर में शुगर की मात्रा को संतुलित बनाये रखता है। इसी कारण से डायबिटीज ​के रोगियों को शुगर कंट्रोल करने के लिए गिलोय का सेवन करने की राय दी जाती है। हालांकि बिना डॉक्टर के परामर्श के इसका सेवन नहीं करना चाहिए। यदि गिलोय के पत्तों को पानी में उबालकर आंखों पर रखा जाए तो इससे नेत्र रोग दूर होते हैं और आंखों की रोशनी बढ़ती है। गिलोय में रोगप्रतिरोधक क्षमता होती है इसी कारण से ये छोटी-छोटी बीमारियों को शरीर से दूर रखता है। इसका सेवन करने से सर्दी-जुकाम, गैस, कब्ज और अन्य बीमारियों से बचा जा सकता है।        साभार-khaskhabar.com

Read More

करेला औषधि के रूप में इस्तेमाल करने के लिए कच्चा करेला ही ज्यादा मुफीद होता है। करेला बेल पर लगने वाली सब्जी है। इसका रंग हरा होता है। इसकी सतह पर उभरे हुए दाने होते हैं। इसके अंदर बीज होती हैं और करेला पक जाए तो बीज लाल हो जाते हैं। जब तक पकता नहीं तक तग बीज सफेद रहते हैं। करेले का न्युट्रिशनल वैल्यू: करेले में प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, बी और सी पाए जाते हैं। इसके अलावा कैरोटीन, लुटीन, जिंक, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मैगजीज जैसे फ्लावोन्वाइड भी पाए जाते हैं। करेले में मौजूद खनिज और विटामिन शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं जिससे कैंसर जैसी बीमारी का मुकाबला भी किया जा सकता है। डार्क करेला में ढेरों एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन पाए जाते हैं। करेले का सेवन हम कई रूपों में कर सकते हैं। हम चाहें तो इसका जूस पी सकते हैं, सब्जी या अचार बना सकते हैं। करेला ठंडा होता है, इसलिए यह गर्मी से पैदा हुई बीमारियों के इलाज के लिए बहुत लाभकारी है। अगर आपकी पाचन शक्ति कमजोर हो तो किसी भी प्रकार करेले का नित्य सेवन करने से पाचन शक्ति मजबूत होती है।    साभार-khaskhabar.com  

Read More

ज्यादातार महिलाओं को पिंपल्स की समस्या सबसे ज्यादा परेशान करती है। पिंपल्स के कारण चेहरा हमेशा दाग-धब्बों से भरा ही लगता है जो आपकी सुंदरता को छीन लेता है। बहुत सी महिलाएं पिंपल्स से छुटकारा पाने के लिए और चेहरे की स्किन को खूबसूरत बनाने के लिए बाहर के प्रोडक्ट भी इस्तेमाल करती हैं। दरअसल, महिलाओं की शरीर में उम्र के हर पड़ाव पर शरीर में हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिससे चेहरे पर पिंपल्स आ जाते हैं। ऐसे में अगर आप भी चाहती हैं कि आपका चेहरा ग्लो करें और चेहरे पर किसी भी तरह के पिंपल्स और दाग-धब्बे ना हो तो आपके लिए 1 घरेलू नुस्खा बताने जा रहे है। इसके इस्तेमाल से आपको किसी तरह की परेशानी नहीं होगी और आपका चेहरा भी चमकने लगेगा। इसके लिए आपको क्या-क्या चीजें चाहिए वो सबसे पहले जान लेते है।  हल्दी जैल के लिए सामग्री... एलोवेरा जैल : 3 बड़े चम्मच। ऑर्गेनिक हल्दी पाउडर : 1 चम्मच। टी ट्री ऑयल। बनाने और लगाने का तरीका... एक बाउल में एलोवेरा और ऑर्गेनिक हल्दी पाउडर डालें। इसे अच्छी तरह से मिलाएं और टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें मिलाएं। आप चाहे तो अपनी त्वचा के टाइप के अनुसार आवश्यक तेल का इस्तेमाल कर सकती है। इसे अच्छी तरह मिक्स होने तक मिलाएं। इसे किसी जार में रख लें और इसे अपने चेहरे, बॉडी और आई क्रीम के रूप में इस्तेमाल करें। हल्दी और एलोवेरा के लाभ... एलोवेरा में अद्भुत स्किन सूदिंग और हाइड्रेटिंग गुण होते हैं। यह एक सुरक्षात्मक परत प्रदान करता है जो त्वचा को नमी बनाए रखने में हेल्प करता है। एलोवेरा में हीलिंग गुण होते हैं, यह त्वचा को भीतर से नमी प्रदान करते हुए यूवी किरणों और गर्मी से क्षतिग्रस्त त्वचा को शांत करने में हेल्प करता है। त्वचा को कोमल बनाने और टाइट करने में भी हेल्प करता है। यह क्रीम जैल-बेस है जो प्रकार की त्वचा के लिए उपयुक्त होता है और हर मौसम में आप इसका इस्तेमाल कर सकती है।  साभार-khaskhabar.com  

Read More

लाइफस्टाइल डेस्क। गर्मियों का मौसम धीरे-धीरे शुरू हो रहा है। बदलते मौसम में खान-पान का विशेष ध्यान रखा जाता है। इस सीजन में खान पान का ध्यान ना रखना शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। गर्मियों में शरीर का तापमान ज्यादा होता है, शरीर के तापमान को संतुलन के रखने के लिए हमें मौसम के मुताबिक ही खान पान करना चाहिए। आइए हम आपको बताने है कि गर्मियों के सीजन में क्या खाएं और किस तरह अपनी सेहत को फिट रखें। खीरे खाना सेहत के लिए लाभकारी गर्मियों में खीरे को खाना सेहत के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। खीरे में पानी की मात्रा अधिक होती है। साथ ही खीरा ऑयली त्वचा को ठीक करने का काम भी करता है। खीरा खाने से सीने जलन, एसीडिटी जैसी समस्याएं दूर होती हैं। आम को फलों को राजा कहा जाता है। आम खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। आम में विटामिन सी और आयरन भरपूर मात्रा में होता है। इन फलों का भी करें सेवन गर्मी के सीजन में तरबूज, खरबूजा, आम, मौसम आदि खाना शरीर के लिए अच्छा रहता है। इस सीजन में तरबूज का सेवन करना शरीर के लिए बहुत लाभकारी रहता है। तरबूज में सोडियम, पौटेशियम और विटामिन बी पाया जाता है। तरबूज में पानी ज्यादा मात्रा में होता है, जो शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है। तरबूज खाते वक्त कभी भी पानी नहीं पीना चाहिए। ये शरीर को हानि पहुंचा सकता है।  साभार-khaskhabar.com  

Read More

People are attracted to kiwifruit because of its brilliant green color and exotic taste. Ingredients Flour - 175 gms, Baking powder - 2 tsp, Butter,softened - 175gms, Caster Sugar - 175 gms, Eggs - 3,beaten, Vanilla extract - 1 tsp Kiwi Fruit - 2, peeled and chopped-plus extra slices to decorate How to make Preheat the oven to 160C. Grease and line a loaf tin or an 8' round tin. Sift the flour and baking powder into a large bowl and add the butter, caster sugar, eggs and vanilla extract. Beat well until the mixture is smooth,then stir in half the chopped kiwi fruit. Spoon the mixture into the prepared tin and smooth the surface with a palette knife. Scatter over remaining chopped fruit. Bake for about 1 hour or until risen, firm and golden brown. Leave to cool in tin for 10 minutes, then turn out and finish cooling on a wire rack.  साभार-khaskhabar.com  

Read More

सर्दियों के मौसम में छोटी सी लापरवाही हमारे लिए भारी पड़ जाती है। इस मौसम में खांसी-जुकाम होना आम बात हो गई है। खांसी दो प्रकार की होती है सुखी और कफ वाली खांसी। दोनों ही प्रकार की खांसी आपको काफी परेशान करती है। खाने पीने से लेकर काम और रात को सोने तक को मजबूर कर देती है। खांंसी से जल्द छुटकारा पाना जरूरी है नहीं तो आगे चलकर टीबी और अस्थमा जैसे गंभीर बीमारियों का रूप धारण कर लेती है। इसी वजह से समय पर इलाज बेहद जरूरी है। खांसी से मुक्ति पाने के उपाय खांसी से जल्दी छुटकारा पाने के लिए एक चम्मच शहद और इतने ही सामान मात्रा में मुलेठी पाउडर व दालचीनी पाउडर की मिलाये और इसे मिश्रण का दिन में 2 बार सुबह और शाम पानी के साथ सेवन करें। फिर देखें खांंसी 3 ही दिन में कैसे गायाब हो जाती है। 5-6 लौंग को भूनकर तुलसी के पत्तों के साथ खाने से सभी प्रकार की खांसी से लाभ होता है। हल्दी के टुकडे को घी में सेंककर रात को सोते समय मुंह में रखने से खांसी और कफ में फायदा होता है। इसी तरह दो ग्राम कालीमिर्च पाउडर व डेढ ग्राम मिश्री का चूर्ण मिलाकर दिन में तीन-चार एक-एक ग्राम की मात्रा में शहद के साथ चाटने से भी लाभ होता है। गला साफ ना होना या किसी तरह का इन्फेक्शन होना खांसी होने के प्रमुख कारणों में से है और हल्दी मिले दूध पीने से गला साफ हो जाता है। हल्दी वाला दूध पीने से गले में जो इन्फेक्शन पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में कारगर होता है।  साभार-khaskhabar.com

Read More

कोरोना विशेष

कोरोनाः स्वास्थ्य कर्मियों, बुजुर्गों, गंभीर रोगियों को लगेगी सबसे पहले वैक्सीन  

Read More

हमारी बात

गाँधी जी को जानने के लिए आपको पढ़ना होगा और उन स्थानों पर जाना होगा जहाँ गांधीजी का सफर रहा है. सभी के अपने अपने मत है..समाज में अच्छाई से लेकर बुराई तक उनके बारे में भरी पड़ी है.

Read More

Bollywood

दर्शन